भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने स्कूपिंग कॉल के माध्यम से एसीबी अफसर बनकर ब्लैकमेल कर अधिकारियों को लुटने के मामले में भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री राधेश्याम गंगानगर के पोते को गिरफ्तार किया है.

साहिल राजपाल इस काम को जयपुर में एक भाजपा विधायक के सरकारी निवास से अंजाम दे रहा था. साहिल ने जलदाय विभाग घूसकांंड के आरोपियों से 10 करोड़ मांगे थे. साहिल ने इस दौरान भ्रष्टाचार निरोधक विभाग के एक बड़े अधिकारी शंकर दत्त शर्मा के नाम का इस्तेमाल किया.

आरोपी के गोरखधंधे का खुलासा उस समय हुआ जब एसपीएमएल कंपनी ने आईपीएस शंकर दत्त शर्मा के खिलाफ सीबीआई में शिकायत की. हालांकि साहिल ने स्पूफिंग कॉल से अपनी पहचान छिपाने के लिए एक दो नहीं 8 देशों के स्पूफिंग गेटवे का इस्तेमाल किया था.

याद रहे आईपीएस शंकर दत्त शर्मा 45000 करोड़ के खान घोटाले, पीएचईडी अधिकारियों को रिश्वत बांटने वाली 35000 करोड़ की कंपनी एसपीएमएल, पीएचईडी के घोटालों सहित प्रदेश के सबसे बड़े भ्रष्टाचार के मामलों की जांच कर रहे हैं.

स्पूफिंग कॉल –

ये कॉल इंटरनेट के जरिये होती है. इसे वॉयस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल भी कहते हैं. इसके तहत कई कंपनियां ऐसा सॉफ्टवेयर तैयार कर सर्वर बेचती हैं जिनके जरिये कोई भी अपने मोाबाइल से कॉल कर सकता है, लेकिन कॉल रिसीव करने वाले के पास वह नंबर आएगा, जिसे यह सर्वर इस्तेमाल करने वाला चाहता है.

साहिल यही करता था. वह कॉल अपने मोबाइल से करता था, लेकिन कंपनी अधिकारियों के पास कॉल शंकर दत्त शर्मा के नाम से जाती थी.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?