Saturday, September 25, 2021

 

 

 

भारत सरकार तहफ़्फ़ुज़ ए नामूसे रिसालत बिल तत्काल करे पास: अल्हाज सईद नूरी

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली: जामिया हज़रत निजामुद्दीन औलिया दिल्ली में मंगवालार को तहफ़्फ़ुज़ ए नामूस रिसालत बोर्ड के अधिवेशन में जनरल सेक्रेटरी और रज़ा अकैडमी के प्रमुख अल्हाज सईद नूरी साहब ने भारत सरकार से तत्काल तहफ़्फ़ुज़ ए नामूस रिसालत बिल को संसद में पास कर कानून का रूप देने की मांग की।

अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी साहब ने कहा कि असामाजिक तत्वों के द्वारा भारत की फिज़ाओं में खोले जा रहे सांप्रदायिकता के जहर के बीच तहफ़्फ़ुज़ नामूस रिसालत बिल के लिए हम देश भर के कई इलाक़ों का दौरा कर चुके हैं। कई राज्य की सरकारो, सांसदो को बिल की प्रति सौंप कानून की मांग कर चुके है। ऐसे में आप सभी से विनती हैं कि आप हमारे इस अभियान का हिस्सा बनें और राज्य सरकारों के साथ केंद्र सरकार से भी अपील करें कि वो हमारी मांग को जल्द से जल्द पूरा करे।

उन्होने कहा कि आप देख रहे हैं कि हर दिन सांप्रदायिक ताकते इस्लाम को निशाना बना रही हैं। कभी क़ुरआन-ए-करीम को तो कभी औलियाई किराम और शान रिसालत में गुस्ताख़ी की ज्ज रही हैं ऐसी सूरत में देश का सांप्रदायिक सोहार्द और भाईचारा के बिगड़ने का अंदेशा है हमारी कोशिश है कि जितनी जल्द हो पैग़ंबर मुहम्मद बिल पास हो।

रज़ा अकैडमी प्रमुख ने ये भी कहा कि हमारी हर तहरीक और अभियान को उलमाए दिल्ली, दिल्ली की मसाजिद के इमाम साहिबान और दिल्ली के अवाम-ओ-ख़वास से भरपूर मदद और समर्थन मिल रहा है और आज के अधिवेशन में जिस तरह  समर्थन किया गया। हम विश्वव्स दिलाते हैं कि आपकी हर आवाज़ पर हम पहले से बेहतर अंदाज़ में और बड़े पैमाने पर दीनी फ़लाही और क़ानूनी समाजी ख़िदमात अंजाम देंगे।

इस दौरान मशहूर इस्लामी स्कालर हज़रत ग़ुलाम याह्या अंजुम मिस्बाही ने कहा कि अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी साहब तहफ़्फ़ुज़ नामूस रिसालत बिल को लेकर मुल्क के हर राज्य का दौरा कर रहे हैं। वो प्रशंसीय है। हम उनकी इस कोशिश की सराहना भी करते हैं। वहीं हज़रत मौलाना सय्यद मुईनउद्दीन अशरफ साहिब ने तहफ़्फ़ुज़ ए नामूस रिसालत बोर्ड की पूरी टीम को उनकी कोशिशों के लिए भी मुबारकबाद भी पेश की।

अधिवेशन की शुरुआत निज़ामी मस्जिद के इमाम-ओ-ख़तीब मौलाना नाज़िश अली नईमी ने क़ुरान-ए-पाक की तिलावत और मौलाना मुहम्मद इमाम उद्दीन इशाअती कुशी नगरी ने नाअत ख़वानी से की। वहीं जामिया हज़रत निजामुद्दीन औलिया के डायरेक्टर मौलाना महमूद ग़ाज़ी अज़हरी ने जामिया और कुल्लिया फ़ातिमा-ज़ेहरा की शेक्षणिक सेवाओं पर प्रकाश डालते हुए शरई कौंसल इदारा शरीया दिल्ली से जुड़े इमाम साहिबान और उलमाए दिल्ली का धन्यवाद किया। अंत में लिमरा फाउंडेशन के चेयरमैन मौलाना इक़लीम रज़ा मिसबाही ने उपहार भेंट किए।

अधिवेशन में मस्जिद ख़लील-उल-ल्लाह के इमाम-ओ-ख़तीब मौलाना मुहम्मद याक़ूब अली ख़ान कादरी, ख़्वाजा क़ुतुब उद्दीन मस्जिद के इमाम मौलाना इश्तियाक़ अहमद बरकाती, रज़ाए मुस्तफ़ा ट्रस्ट कबीर नगर के सदर हाजी मुहम्मद आज़ाद साहिब, मौलाना अबदुर्रशीद बरकाती संगम विहार, क़ारी मज़हर उद्दीन अज़ीज़ी मिसबाही, मौलाना सीमाब अख़तर फ़ैज़ी, शौकत अली बरकाती, अंजुमन रज़ा के अरकान, और बहुत सी मसाजिद के इमाम साहिबान और उलमाए दिल्ली ने शिरकत की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles