तमिलनाडु के कांचीपुरम के पास एक मंदिर के जीर्णोद्धार के दौरान ग्रामीणों को “प्राचीन सोना” मिला। जिसे अधिकारियों ने जब्त कर लिया।

समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, ग्रामीणों द्वारा उथिरामुर के भगवान शिव मंदिर के जीर्णोद्धार के दौरान, आधा किलो से अधिक वजन की ‘सोने की वस्तुएं’ मिलीं। यह ‘सोने का सामान’ गर्भगृह की ओर जाने वाली सीढ़ियों के नीचे मिला।

सूचना मिलने के बाद अधिकारी मंदिर पहुंचे और चाहते थे कि सोना सरकार को सौंप दिया जाए। भक्तों और स्थानीय लोगों ने सोने को देने से इनकार कर दिया। क्योंकि वे जीर्णोद्धार पूरा होने के बाद सोने को उसी स्थान पर लगाना चाहते थे, लेकिन अधिकारी इसे लेने पर अड़े हुए थे।

वार्ता विफल होने के बाद, अधिकारियों ने गांव में पर्याप्त संख्या में पुलिस कर्मियों को तैनात किया और लोगों के विरोध के बीच उन्होंने इसे जब्त कर लिया, एक बॉक्स में इसे पैक किया और फिर सील करके ले गए।

ग्रामीणों के अनुसार, मंदिर कई सदियों पुराना है और माना जाता है कि यह चोल युग से संबंधित है। यह पूछने पर कि क्या उन्होंने प्राप्त वस्तु का सत्यापन किया है (कि क्या यह सोना और सदियों पुराना है) तो राजस्व संभागीय अधिकारी विद्या ने कहा कि ‘यह सोने जैसा दिख रहा है।’

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि सोने का वजन “सूचना के अनुसार 565 ग्राम” था और सरकारी राजस्व अधिकारी इस बात का फैसला करेंगे कि मंदिर को सोना वापस दिया जाए या नहीं।