नई दिल्ली: पेशे से किसान और आयुर्वेदिक डॉक्टर प्रमोद सावंत गोवा के मुख्यमंत्री बन गए हैं. वह सूबे के 11वें मुख्यमंत्री होंगे. गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के असामयिक निधन के बाद राज्य में राजनीतिक संकट पैदा हो गया था.

दरअसल, कांग्रेस ने भी सबसे बड़ी पार्टी होने की बात कहते हुए सरकार बनाने का दावा ठोक दिया था और भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार संकट में दिख रही थी. ऐसे में कई बैठकों के बाद बीजेपी और सहयोगी दल नए मुख्यमंत्री के तौर पर एक नाम पर सहमत हुए, और वह नाम था प्रमोद सावंत.

46 वर्षीय सावंत गोवा में बीजेपी के अकेले विधायक हैं, जो आरएसएस काडर से हैं. सावंत बीते साल अक्टूबर आरएसएस के सरसंघचालक मोहन भागवत से भी मिले थे. कहा जाता है कि इस दौरान उन्होंने अपनी सीएम दावेदारी की बात की थी। माना जाता है कि पर्रिकर के मातहत ही उन्होंने राजनीति सीखी थी और वह उनकी पसंद भी थे.

पार्टी के एक सूत्र ने बताया, ‘सावंत की पार्टी के प्रति वफादारी ऐसी रही है कि उन्होंने अपनी निजी आकांक्षाओं को हमेशा पार्टी से पीछे रखा. इसके अलावा अगले 10 से 15 वर्षों के लिए कोई युवा नेतृत्व तलाशने की बीजेपी की कोशिश भी उनके तौर पर पूरी हुई है. इसके अलावा पर्रिकर की इच्छा यही थी कि अगला सीएम बीजेपी विधायकों में से कोई हो तो इसे भी सावंत के जरिए पूरा किया गया है.’

सन 2017 के विधानसभा चुनाव में डॉ प्रमोद सावंत ने 10,058 वोट हासिल करके कांग्रेस के धर्मेश प्रभुदास सगलानी को मात दी थी. उन्होंने सगलानी से 32% अधिक वोट हासिल किए थे. साल 2012 के चुनाव में प्रमोद सावंत ने कांग्रेस के प्रताप गौंस को हराया था. सावंत को 14,255 वोट मिले थे.

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano