नई दिल्ली: गुवाहाटी हाई कोर्ट की कोहिमा बेंच ने बाजारों और रेस्तरां में कुत्ते के मांस को बेचने पर लगे नागालैंड सरकार के प्रतिबंध को हटा दिया है। बता दें कि राज्य सरकार ने इसी साल 2 जुलाई को कुत्ते के मांस की बिक्री पर रोक लगाई थी।

3 जुलाई को, नागालैंड के मुख्य सचिव टेम्जेन टॉय ने “कुत्तों के मांस के वाणिज्यिक आयात और व्यापार, कुत्ते के मांस की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी।” मिजोरम द्वारा इसी तरह का कदम उठाने के चार महीने बाद यह प्रतिबंध लगाया था।

नगालैंड की राजधानी में कुत्तों को आयात करने और कुत्ते का मांस बेचने के लिए कोहिमा नगर निगम द्वारा लाइसेंस प्राप्त व्यापारियों ने प्रतिबंध को चुनौती दी थी।  याचिकाकर्ताओं में से एक एन कुओत्सु ने कहा, “प्रतिबंध ने कुत्तों और कुत्ते के मांस बेचने वाले लोगों की आजीविका पर प्रतिकूल प्रभाव डाला, और महामारी की स्थिति ने इसे बदतर बना दिया।”

हाई कोर्ट ने 14 सितंबर को नागालैंड सरकार को इस मामले में कोर्ट में हलफनामा दाखिल करने का मौका दिया था, लेकिन सरकार ने अदालत में हलफनामा दायर नहीं किया।

बता दें कि नागालैंड को संविधान के अनुच्छेद 371 (ए) के तहत विशेष छूट प्राप्त है, जो राज्य के लोगों के प्रचलित पारंपरिक प्रथाओं को संसद के किसी भी अधिनियम से बचाने के लिए विशेष दर्जा प्रदान करता है।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano