बिहार: गौरक्षकों ने पहले मुस्लिमों की पिटाई, फिर भी पीड़ितों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा बीजेपी के साथ किये गए गठजोड़ का असर दिखने लगा है. ताजा मामला चंपारन का है. जहाँ पहले गौरक्षकों ने मुस्लिमों को बेदर्दी से पीटा और फिर पुलिस ने गौरक्षकों की झूटी शिकायत पर ही पीड़ितों को जेल में डाल दिया.

विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने शहाबुद्दीन नाम के शख्स के घर पर हथियारों के साथ हमला कर दिया. कार्यकर्ताओं ने न केवल शहाबुद्दीन के परिवार को पीटा बल्कि पड़ोसियों को भी अपना निशाना बनाया. इस हमले में बुरी तरह घायल हुए 4 लोगों को नजदीक के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है.

वहीँ दूसरी और बिहार पुलिस ने कानून को ताक पर भगवा फरमान की तामिल करते हुए बीफ कानून टूटने के आरोप में 7 मुस्लिमों को गिरफ्तार किया है. पीड़ितों के नाम खुदुश कुरैशी, नसरुद्दीन मियां, मुस्तफा मियां, जहांगीर मियां, असलम अंसारी, बब्लू मियां और रिजवान मियां है.

पुलिसकर्मी राजेश झा ने बताया कि इस आरोप में 7 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिन पर समुदाय की भावनाओं को आहत करने का आरोप है. हालाँकि पुलिस ने किसी भी भगवा कार्यकर्ता के खिलाफ FIR करना भी जरुरी नहीं समझा.

घटना को लेकर भाजपा नेता ने कहा कि अब बिहार में हमारी सरकार है. ये बीजेपी और बजरंग दल कार्यकर्ताओं की सुनियोजित चाल थी.

विज्ञापन