हाथरस केस (hathras case) ने नए पलटवार का सिलसिला जारी है, नए खुलासे के मुताबिक हाथरस में जातिय दंगा भड़काने के लिए 50 करोड़ की फंडिंग की बात सामने आ रही है. गौरतलब है की कल ही एक नया खुलासा हुआ था जिसमे पीड़िता परिवार और मुख्य आरोपी के बीच फ़ोन पर 104 बार बात की गयी थी, जिसमे 62 बार लड़की की तरफ से कालिंग हुई थी.

आज के खुलासे में कहा गया है की प्रदेश में जातिय दंगा भड़काने के लिए पीएफआई को मॉरिशस से 50 करोड़ की फंडिंग की गयी, बता दें कि हाथरस मामले को लेकर उत्तर प्रदेश में जातीय दंगा भड़काने की साजिश रचे जाने की आशंका जताई गई थी, जिसमें एक वेबसाइट के खिलाफ हाथरस पुलिस द्वारा केस दर्ज कर जांच की जा रही है।

इस मामले में बुधवार को आई ईडी की यह शुरुआती रिपोर्ट बड़े डिवेलपमेंट के तौर पर देखी जा रही है। पीएफआई को मॉरिशस से 50 करोड़ की फंडिंग को लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। कहा जा रहा है कि विदेशों से आए इन पैसों से यूपी में माहौल बिगाड़ने की साजिश रची जा रही थी।

हाथरस मामले को लेकर प्रदेश में जातीय दंगा फैलाने की कोशिश की जा रही थी। पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई करते हुए बीते दिनों दिल्ली से हाथरस जा रहे 4 लोगों को गिरफ्तार भी किया है। योगी सरकार ने भी इससे पहले प्रदेश को दंगों में झोंकने की आशंका जताते हुए विदेशी संगठनों द्वारा फंडिंग का आरोप लगाया था।