जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने पैलेट गन पीड़ितों पर डॉक्यूमेंट्री बना रहे फ्रांसीसी पत्रकार कोमिटी पॉल एडवर्ड को हिरासत में लिया है. हालांकि उन्हें वीजा नियमों का उल्लंघन करने को लेकर हिरासत में लिया है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, एडवर्ड ने पैलेट गन पीड़ितों और अलगाववादी नेताओ से मुलाक़ात की थी. जिसके बाद जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने उन्हें हिरासत में लिया. ध्यान रहे हिजबुल कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद भडकी हिंसा के दौरान पेलेट गन के इस्तेमाल से बड़ी संख्या में लोग घायल हुए थे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पुलिस अधिकारी ने बताया कि एडवर्ड को रविवार शाम को कोठीबाग क्षेत्र से हिरासत में ले लिया गया. वह अपने डॉक्यूमेंट्री की शूटिंग के लिए शहर में अलगाववादियों और पैलेट गन के पीड़ितों से मिल रहे थे.

अधिकारी का कहना है कि एडवर्ड के पास भारत की यात्रा के लिए बिजनेस वीजा है, जो 22 दिसंबर 2018 तक वैध है. ऐसे में बिजनेस वीजा के तहत किसी को भी राजनीतिक और सुरक्षा संबंधी मुद्दों पर डॉक्यूमेंट्री बनाने की इजाजत नहीं है.

उन्होने बताया, एडवर्ड के खिलाफ पासपोर्ट अधिनियम की धारा 14बी के तहत प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज की गई है. साथ ही फ्रांसीसी दूतावास को एडवर्ड को हिरासत में लिए जाने के बारे में सूचित कर दिया गया.

Loading...