35924288 10217065747783816 7927059321039355904 n

उत्तरप्रदेश के इलाहबाद मे ईमानदारी की बड़ी मिसाल देखने को मिली है। काटजू रोड निवासी मुहम्मद शारिफ़ उर्फ जानू को नजेरथ अस्पताल की पार्किंग मे नोटो से भरा हुआ बैग मिला। लेकिन उन्होने बैग को उसके असल मालिक तक पहुंचा दिया।

ये बैग मेजा के रहने वाले किसान रविशंकर का था। जो अपने बेटे रामूशंकर का इलाज कराने के लिए अस्पताल आए हुए थे। वे अपनी जमीन बेचकर बेटे का इलाज कराने इलाहबाद आए हुए थे।

शारिफ़ को उनका ये बैग जिसमे करीब 3.60 लाख रुपए थे । बुधवार की रात को दस बजे पार्किंग मे गाड़ी करने के दौरान मिला। उन्होने रात बारह बजे तक बैग के मालिक को तलाशा। लेकिन कोई नहीं मिला।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

शारिफ़ बैग लेकर सीधे घर पहुंचे और अब्बा को पूरा मामला बताया। अब्बा ने सुबह जाकर बैग लौटाने को कहा। लेकिन असल मालिक को तलाशना बड़ा काम था। ऐसे मे उन्होने अस्पताल के रिसेप्शन पर खुद के नोटो का बैग गुमने का ऐलान कराया।

वहीं पास खड़ी नर्स ने बताया कि किसान रविशंकर का भी बैग गुमा हुआ है। जिसके बाद शारिफ़ ने उन्हे उनका नोटो से भरा बैग सौंप दिया। इस दौरान किसान ने शारिफ़ को 50000 का इनाम भी देने की कोशिश की। लेकिन उसने लेने से मना कर दिया।

Loading...