उत्तरप्रदेश में योगी सरकार द्वारा अवैध बूचड़खानों पर की जा रही कारवाई के लिए आल इंडिया मीट एण्ड लाइव स्टाक एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन ने पूर्व सपा और बसपा सरकार को जिम्मेदार ठहराया हैं.

एसोसिएशन के प्रतिनिधिमण्डल की स्वास्थ्य मंत्री सिार्थनाथ सिंह से हुई मुलाकात के बाद एसोसिएशन के प्रतिनिधि हाजी शकील कुरैशी ने कहा कि एसोसिएशन को अवैध बूचड़खानों पर हुई कार्रवाई से कोई शिकायत नहीं है लेकिन इनसे हजारों लोगों की रोजी रोटी जुड़ी होने के मद्देनजर प्रदेश सरकार को नाजायज वधशालाओं को वैध करने की प्रक्रिया को सरल बनाना चाहिये.

उन्होंने अवैध बूचड़खाने बंद कराये जाने के योगी आदित्यनाथ सरकार के फैसले को राजधर्म करार देते हुए कहा कि सरकार की कार्रवाई से सैंकड़ों लोगों के बेरोजगार होने के लिये प्रदेश की पूर्ववर्ती सपा और बसपा सरकारें जिम्मेदार हैं, जिन्होंने बूचड़खानों के लाइसेंस नवीनीकरण की प्रक्रिया को समयब नहीं बनाया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि प्रदेश की सभी नगर पालिका परिषद, नगर पंचायत और नगर निगमों के अपने बूचड़खाने हैं। मांस कारोबारी इन निकायों को बूचड़खानों के इस्तेमाल के एवज में धन देते हैं लेकिन फिर भी बूचड़खानों को आधुनिक सुविधाएं नहीं दी गयीं. इसके अलावा मांस काटने और बेचने वालों के लाइसेंस नवीनीकरण की फाइलें महीनों से जिला प्रशासन और शासन में धूल खा रही हैं.

Loading...