गोरखुपर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत के मामले में कॉलेज के पूर्व प्रिसिंपल राजीव मिश्रा और उनकी पत्नी डॉ पूर्णिमा शुक्ला को गिरफ्तार किया गया है. दोनों की गिरफ्तारी कानपुर के साकेतनगर से हुई है.

दोनो पति-पत्नी गोरखपुर ऑक्सीजन कांड के बाद से फरार चल रहे थे. एसटीएफ ने दोनों को गिरफ्तार कर गोरखपुर पुलिस को सौंप दिया है. ध्यान रहे बीआरडी अस्पताल में 10 अगस्त की रात को ऑक्सिजन की सप्लाई में बाधा से 36  बच्चों की मौत हुई थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसी के साथ यूपी पुलिस ने बीआरडी अस्पताल के डॉक्टर कफील अहमद की गिरफ्तारी के लिए राजघाट में मौजूद उनके घर पर सोमवार को छापा मारा लेकिन डॉ कफील अपने घर में नहीं मिले. बच्चों की मौत के वक्त डॉ. कफील पर इंसेफलाइटिस वॉर्ड का जिम्मा था.  कफील को योगी सरकार पहले ही बर्खास्त कर चुकी है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश पर प्रदेश सरकार ने गोरखपुर में बच्चों की मौत के मामले में लखनऊ के हजरतगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज हुई थी. रिपोर्ट में प्रिंसिपल, उनकी पत्नी और डॉ कफील के अलावा ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी पुष्पा सेल्स के दो अधिकारियों को जिम्मेदार ठहराया गया.

हालांकि डॉ कफील ने इन सभी आरोपों को खारिज किया है. उन्होंने हाल ही में वीडियो जारी कर इस मामलें में उन्हें बलि का बकरा बनाने की बात कही.

Loading...