Saturday, September 25, 2021

 

 

 

‘कोंकण में बाढ़ कोएना डैम में अचानक पानी छोड़ने का नतीजा’

- Advertisement -
- Advertisement -

मुंबई: महाराष्ट्र के कोंकण इलाकों में आई बाढ़ से उपजे हालात का जायजा लेने के लिए अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी और हजरत मौलाना सैयद मोईन अशरफ मियां के नेतृत्व में रज़ा एकेडमी की टीम ने बुधवार को भी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा किया। साथ ही बाढ़ पीड़ितों के बीच राहत सामग्री भी वितरित की।

दारुल उलूम इमाम अहमद रज़ा रत्नागिरी के मुफ़्ती इब्राहिम मकबूली और मुफ़्ती अब्दुल रहीम ने स्थानीय लोगों के साथ कोंडीवारी पहुंचे। जहां दुकानों, घरों, दफ्तरों और गोदामों से पानी से लथपथ सामान निकालने का सिलसिला जारी था। बाढ़ से नष्ट हुई जीवन की आवश्यक वस्तुएं ढेर में बिखरी हुई थीं। प्रशासन के अलावा, स्थानीय लोग, व्यक्तिगत और सामूहिक रूप से अपने मकानों और दुकानों की सफाई कर रहे थे। हवा में सड़ांध की गंध आ रही थी। फिलहाल मानव जीवन के नुकसान का सही आकलन नहीं हो पाया है।

इस दौरान स्थानीय अधिकारियों द्वारा आज सुबह बाढ़ प्रभावित गांवों और बस्तियों में जरूरतमंदों को कूपन वितरित किए गए और फिर छोटे माल वाहनों द्वारा क्षेत्रवार राहत वितरित की गई। हजरत सैयद मोईन अशरफ मियां ने कहा कि बाढ़ के कारण हमने यहां जो तबाही देखी है, वह बहुत दर्दनाक है। बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद करने वाले लोग बधाई के पात्र हैं। मौलाना सैयद मोइन अशरफ मियां ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार के अलावा, केंद्र सरकार को भी पीड़ितों को वित्तीय सहायता प्रदान करनी चाहिए।

रजा एकेडमी प्रमुख अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी ने कहा कि हम महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से अनुरोध करते हैं कि वे विशेष ध्यान दें और बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों में सफाई के लिए सख्त आदेश जारी करें। ताकि किसी भी बीमारी के प्रसार को नियंत्रित किया जा सके। दारुल उलूम इमाम अहमद रजा कोंडीवारी के प्रमुख मुफ्ती इब्राहिम मकबूली ने कहा कि हजरत सैयद मोइन अशरफ मियां और अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी के नेतृत्व और मार्गदर्शन में मुंबई, मालेगांव, भिवंडी और अन्य शहरों से यहां भेजी गई राहत एक महान मानवीय सेवा है। हम उन सभी के आभारी हैं जिन्होंने लोगों की सेवा की भावना के साथ इस नेक काम में हिस्सा लिया।

डॉ रईस अहमद रिजवी ने कहा कि हजरत सैयद मोइन अशरफ मियां, उलेमा अहल-ए-सुन्नत और अलहाज मुहम्मद सईद नूरी के नेतृत्व में प्रभावित परिवारों को राहत बांटने से मिली मन की शांति अवर्णनीय है। रिजवी सलीम शहजाद ने कहा कि समय और स्थिति की नाजुकता को जानते हुए तत्काल राहत प्रदान करने का निर्णय रजा एकेडमी के संस्थापक की दूरदर्शिता का परिणाम है।

गौरतलब है कि मौलाना खलील नूरी, मौलाना अमानुल्लाह रज़ा, मौलाना ज़फ़रुद्दीन, मौलाना मुहम्मद आरिफ रिज़वी, मौलाना ज़ैनुल आबिदीन रिज़वी आदि ने भी बाढ़ पीड़ितों को व्यक्तिगत और सामूहिक रूप से सांत्वना दी और जीने के लिए प्रेरित किया। राहत प्रतिनिधिमंडल में शामिल उलेमा और बुजुर्गों ने अपने हाथों से कुछ जगहों पर राहत किट बांटी।कुछ गांवों में स्थानीय जिम्मेदार पंच समिति की मदद से बाढ़ पीड़ितों को राहत पहुंचाने का कार्य योजनाबद्ध तरीके से किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles