Sunday, September 19, 2021

 

 

 

सहाबा की शान में गुस्ताखी, वसीम रिजवी के खिलाफ दर्ज हुई FIR

- Advertisement -
- Advertisement -

शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी पर धार्मिक भावना आहत करने के आरोप में केस दर्ज किया गया है। उन पर ये केस सुन्नी समुदाय के खलीफाओं के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी करने को लेकर किया गया है।

सहाबा एक्शन कमेटी के अध्यक्ष मौलाना अब्दुल वाहिद फारूकी ने लखनऊ की चौक कोतवाली में एफआईआर दर्ज कराई है। एफआईआर के अनुसार, बीते नवंबर में रिजवी ने एक फिल्म का ट्रेलर लॉन्च किया था। इसके लेखक, निर्माता स्वयं वसीम रिजवी हैं। ट्रेलर लॉन्चिग के बाद से ही यू-ट्यूब पर चल रहा है। फिल्म में सुन्नी समुदाय के खलीफाओं के बारे में आपत्तिजनक टिप्पणी की गई है।

सीओ चौक डीपी तिवारी के मुताबिक एफआइआर दर्ज कर ली गई है। चौक थाना प्रभारी निरीक्षक उमेश चंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि सहाबा एक्शन कमेटी के अध्यक्ष की तहरीर पर केस दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच की जा रही है। फिल्म का ट्रेलर भी अब्दुल वाहिद ने उपलब्ध कराया है। इसकी फोरेंसिक जांच कराई जा रही है।

कमेटी के अध्यक्ष का कहना है कि उन्होंने फिल्म और उसका ट्रेलर दिखाए जाने पर प्रतिबंध लगाने के लिए हाई कोर्ट में रिट दाखिल की। रिट पर सुनवाई के दौरान न्यायालय ने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय व सेंसर बोर्ड से याचिका में उल्लेखित बिंदुओं पर जानकारी मांगी। इसके बाद पता चला कि उस फिल्म का ट्रेलर दिखाए जाने पर बांबे हाई कोर्ट ने रोक लगा दी है। यही नहीं सेंसर बोर्ड ने बताया कि उनकी तरफ से फिल्म दिखाने का न तो कोई प्रमाण पत्र जारी किया गया है और न ही इस बारे में कोई प्रार्थना पत्र विचाराधीन है।

आरोप है कि इस फिल्म का ट्रेलर दो समुदायों में जहर घोलने के लिए जारी किया गया है। कमेटी के अध्यक्ष ने वसीम पर गंभीर आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की है। इसके अलावा मदरसों में आतंकी संगठन की फंडिंग होने और आतंकी पैदा होने की बात कहकर पीएम से मदरसों को बंद करने मांग करने वाले शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी को विधिक नोटिस भेजा गया है।

आरटीआई एक्टिविस्ट तनवीर अहमद सिद्दीकी की ओर से भेजे नोटिस में रिजवी से 15 दिन में यह प्रमाण उपलब्ध कराने को कहा गया है। सिद्दीकी ने कहा कि अगर प्रमाण नहीं दिए गए तो उनके खिलाफ वे कानूनी प्रक्रिया शुरू करेंगे। यह नोटिस हाईकोर्ट के अधिवक्ता त्रिभुवन कुमार गुप्ता के जरिए भेजा गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles