chinta

उज्जैन के सांसद चिंतामणि मालवीय पर शुक्रवार को महाकाल मंदिर में प्रवेश करने के दौरान पुलिसवाले के साथ दुर्व्यवहार करने के आरोप में एफआईआर दर्ज की गई है। उज्जैन पुलिस ने सरकारी काम में बाधा पहुंचाने के अलावा आचार संहिता के उल्लंघन से संबंधित धाराएं भी लगाई हैं।

जानकारी के अनुसार, शुक्रवार को सूबे के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने परिवार के साथ महाकाल मंदिर में पूजा करने आए थे। तैयारियों का जायजा लेने के लिए भाजपा सांसद चिंतामणि मालवीय मंदिर में प्रवेश करना चाह रहे थे। लेकिन वहां तैनात पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो वो उन पर गुस्सा होने लगे।

आरोप है कि मौजूद पुलिसकर्मियों के साथ उन्होंने गाली-गलौज भी की। इससे जुड़ा एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें वो पुलिसकर्मियों पर बरसते नजर आ रहे हैं। ऐसे में महाकाल पुलिस ने सांसद के खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन, सरकारी काम में बाधा पहुंचाने, धमकी देने, अपशब्द कहने और महाकालेश्वर मंदिर एक्ट के तहत करीब एक दर्जन धाराओं में केस दर्ज किया है।

यह पहली बार नहीं है| इससे पहले भी कई बार चिंतामणि मालवीय अपनी मर्यादाएं लांघ चुके हैं। इससे पहले दिवाली के मौके पर भी वो पटाखे जलाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का खुला विरोध कर चुके हैं।

केस दर्ज होने के बाद जब उज्जैन सांसद से वीडियो के बारे में पूछा गया तो उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि, जिला प्रशासन और पुलिस ने जिलाध्यक्षों को मंदिर में नहीं आने दिया था और आचार संहिता की आड़ में पुलिस जबरदस्ती सख्ती कर रही थी।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें