मस्जिद में इमामत को लेकर शुक्रवार को अमरोहा के निकट गांव फंदेड़ी सादात में जमकर बवाल हुआ. दरअसल देवबंदी मसलक के मुस्लिमों ने बरेलवी मसलक के इमाम अहमद हसन के पीछे नमाज पढ़ने से मना कर दिया था. जिसके बाद ये बवाल मचा.

इस दौरान दोनों पक्ष के लोग एक-दुसरे के सामने आ गए और जमकर पत्थरबाजी एवं फायरिंग शुरू हो गई. इस मामले में पुलिस ने मौलाना सहित इक्कीस लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर किया है. साथ ही मौके से हिरासत में लिए सभी 11 आरोपियों को चालान किया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पुलिस ने मौलाना अहमद हसन निवासी ग्राम नोराहन थाना अमरोहा देहात, साहिद, मेहताब, तौकीर, मोहम्मद याकूब, फयाजुद्दीन, रिजवान, इमरान, इस्लामू, सरकार आलम, निसार अहमद, इसरार अहमद, रईस अहमद, सुलेमान, नजाकत, रहीस अहमद, अली अहमद, बाबू, तहसीन, तस्लीम, गुलफाम निवासी ग्राम फंदेड़ी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है.

थाना प्रभारी निरीक्षक ऋषिराम कठेरिया ने बताया कि इमाम द्वारा नमाज के बाद सलाम पढ़ाये जाने को लेकर विवाद हुआ था. इसका कुछ लोग विरोध कर रहे थे। इमाम विवादित है. देवबंदी- बरेलवी का कोई मामला नही है.

शिया बहुल इस गाँव में शनिवार को सुरक्षा को लेकर पुलिस गांव में डेरा डाले रही. एक उप निरीक्षक एवं दो सिपाही सुरक्षा के लिए मस्जिद के निकट तैनात रहे.