केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की बहन फरहत नकवी और निदा खान को इस्लाम से खारिज करने की तैयारी कर ली गई है। इसकी वजह तीन तलाक को लेकर दोनों के  विवादित कदमों को बताया जा रहा है।

बरेली के मुफ्ती खुर्शीद आलम ने शुक्रवार को कहा कि इन दोनों महिलाओं को इस्लाम से बेदखल कर दिया जाएगा। खुर्शीद आलम ने जुमे की नवाज के दौरान तकरीर में ये ऐलान किया है। बता दें निदा खान आला हजरत परिवार से ताल्लुक रखती हैं।

इस मामले में निदा खान का कहना है कि इस्लाम किसी का ट्रेडमार्क नहीं, किसी का कॉपीराइट नही है. संविधान ने हमें अपना अधिकार दिया है। उन्होंने सबीना का मामला उठाते हुए कहा कि औरतों को प्रताड़ित करना इन्होंने फैशन बना लिया है।

उन्होंने कहा कि जिस आला हजरत खानदान में उनकी शादी हुई उसी खानदान में 14 तलाक़, 3 तलाक़ के हैं। ये लोग सिर्फ अपना शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने कहा ऐसे जाहिलों से वो डरने वाली नहीं।

केन्द्रीय मंत्री की बहन फ़रहत नकवी ने मीडिया को बताया कि वो औरतों के हक और इंसाफ के लिए लड़ती रहेंगी। उन्होंने कहा कि वो औरतों के हुकूक उनके इंसाफ के लिए लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस्लाम में जुर्म सहना भी गुनाह बताया है गया है। फ़रहत एक नहीं, कई फ़रहत पैदा हो चुकी हैं।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano