अलवर: फलाहारी बाबा उर्फ़ जगदगुरु रामानुजाचार्य स्वामी कौशलेंद्र प्रपन्नाचारी ने खुद पर लगे बलात्कार के जुर्म को कबूल कर लिया है. जिसके बाद उसे अदालत में पेश किया गया. जहाँ से 6 अक्तूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

गिरफ्तारी से बचने के लिए फलाहारी बाबा ने कई जतन किये लेकिन कोई सफलता नहीं मिली. बिमारी का बहाना बना कर अस्पताल में भर्ती हुए फलाहारी बाबा को पुलिस ने मेडिकल टेस्ट कराया. जिसमे वह फिट पाया गया. उसके बाद उसने बलात्कार के जुर्म से बचने के लिए नामर्द होने की बात कही. लेकिन उसका पोटेंसी टेस्ट भी पॉजिटिव आया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पुलिस सूत्रों का दावा है कि बाबा ने जुर्म स्वीकार कर लिया है. उसने यह स्वीकार किया है कि रक्षा बंधन के दिन पीड़िता उसके साथ थी और उसने पीड़िता के सभी आरोपों को स्वीकार किया है.

अरावली थानाधिकारी एचआर मीणा ने बताया कि स मामले में जांच पूरी हो चुकी है. आरोप साबित होने के बाद ही फलाहारी बाबा को गिरफ्तार किया गया. पुलिस को अभियुक्त से अब कोई पूछताछ नहीं करनी है, इसलिए रिमांड नहीं मांगा गया है. पुलिस जल्द ही न्यायालय में आरोपी के खिलाफ चालान पेश करेगी.

ध्यान रहे बिलासपुर की लड़की ने फलाहारी महाराज पर उसके साथ आश्रम में बलात्कार करने के मामले में रिपोर्ट दर्ज कराई है. इस मामले में धारा 376 (2एच) और 506 के तहत बाबा को गिरफ्तार किया गया है.

Loading...