मध्य प्रदेश के बालाघाट संसदीय क्षेत्र से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे पूर्व विधायक किशोर समरीते के पास चुनाव लड़ने के लिए पैसा नहीं है। ऐसे में उन्होने चुनाव आयोग से अपनी किडनी (गुर्दा) बेचने की इजाजत मांगी है।

समरीते ने बालाघाट के जिला निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखकर कहा, ‘लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार के लिए अधिकतम व्यय सीमा 75 लाख रुपये है, मगर मेरे पास चुनाव लड़ने के लिए इतनी धनराशि नहीं है। वहीं, दूसरे उम्मीदवारों की संपत्ति हजारिं करोड़ के आसपास है। इसके साथ ही चुनाव प्रचार की अवधि में महज 15 दिन शेष हैं, इस अवधि में जन सहयोग से राशि जुटाना संभव नहीं है।’

Loading...

समरीते ने चुनाव आयोग से अनुरोध किया है कि आयोग 75 लाख रुपये की राशि उपलब्ध कराए या बैंक से उक्त राशि बतौर कर्ज दिलाने में मदद करें। उन्होंने यह भी कहा कि अगर यह दोनों ही संभव नहीं हो तो उन्हें अपने दो में से एक किडनी बेचने की अनुमति दें।

समरीते का कहना है कि वह 10 साल बाद निर्वाचन प्रक्रिया में सम्मिलित हो रहे हैं। आर्थिक स्थिति बेहतर नहीं है, लिहाजा चुनाव आयोग उनकी मदद करे या गुर्दा बेचने की अनुमति प्रदान करें। बता दें कि किशोर समरीते समाजवादी पार्टी (एसपी) के पूर्व विधायक रह चुके हैं और उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर रेप के आरोप वाली याचिका दर्ज कराई थी।

किशोर समरीते ने कहा, ‘चुनाव प्रक्रिया महंगी होती जा रही है, इस स्थिति में कमजोर वर्ग के व्यक्ति के लिए तो चुनाव लड़ना बड़ा मुश्किल काम हो चला है। लिहाजा चुनाव आयोग को ऐसी व्यवस्था करनी चाहिए जिससे आम आदमी के लिए चुनाव लड़ना आसान हो।’

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें