बड़ी ही धूमधाम से देश आज़ादी का जश्न मना रहा हैं लेकिन देश के नेता आज भी आम जनता को गुलाम ही समझते हैं. साथ ही गुलामी का एहसास कराते हैं. ऐसा ही एक वाकया उड़ीसा में पेश आया हैं. जहाँ स्वतंत्रता दिवस के मौके पर हजारों की भीड़ में कार्यक्रम के दौरान मंत्री ने अपने पर्सनल सिक्‍योरिटी ऑफिसर(पीएसओ) से सैंडल खुलवाए और बंद कराए.

घटना केवनझार जिले में स्‍वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम के दौरान हुई. हेड़ा लघु एवं मध्‍यम उद्योग मंत्री हैं. उनका पीएसओ सैंडल की स्‍ट्रेप ढीली करते और बाद में बांधते हुए दिखाई दिया. यह घटना हजारों लोगों और टीवी कैमरों के सामने हुई. इस बारे में जब स्‍थानीय पत्रकारों ने उनसे पूछा तो बहेड़ा ने कहा, ”मैं वीआईपी हूं. मैंने झंडा फहराया.”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बाद में मंत्री ने बताया कि उन्‍हें घुटने में समस्‍या है. इसलिए उनके पीएसओ ने सैंडल स्‍ट्रेप खोली तो इसमें गलत क्‍या है। बहेड़ा ने कहा, ”वह मेरी मदद कर रहा था.

भाजपा प्रवक्‍ता सज्‍जन शर्मा ने इसे शर्मनाक बताते हुए कहा ” नवीन पटनायक सरकार में सरकारी स्‍टाफ और पर्सनल स्‍टाफ में कोई अंतर नहीं है। मंत्री सोचते हैं कि ओडिशा उनकी जागीर है

Loading...