Wednesday, October 20, 2021

 

 

 

शिवराज सरकार का धार्मिक घोटाला – नर्मदा सेवा यात्रा के दौरान एक वक्त की आरती पर किया 59 हजार का खर्च

- Advertisement -
- Advertisement -

nrm

मध्य प्रदेश में नर्मदा नदी को अविरल, प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए निकाली गई करोड़ों की ‘नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा’ शुरू से ही सवालों के घेरे में है. लेकिन अब एक आरती का खर्च 59 हजार सामने आने के बाद इस बड़े घोटाले की बू आ रही है.

148 दिन की इस यात्रा में दोनों वक्त आरती की का प्रावधान था. जो साध्वी प्रज्ञा भारती और उनकी मंडली ने की थी. यात्रा में लगभग 50 स्थानों पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद शामिल हुए थे. ऐसे में 148 दिनों तक चली आरती पर कुल खर्च 1,74,64,000 रुपये का होता है.

सुचना के अधिकार के तहत मिली जानकारी में पता चला है कि चार मार्च को महेश्वर के घाट पर जो आरती हुई थी. उस पर 58,650 रुपये खर्च आया था. इसका भुगतान जनपद पंचायत महेश्वर द्वारा किया गया. इसके अलावा अन्य खर्च अलग रहे.

आरटीआई कार्यकर्ता खरगौन के महिमाराम भार्गव ने बताया कि 58,650 रुपये का आरती का भुगतान इंदौर की एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी को किया गया. अब ऐसे में सवाल उठता है कि आरती में ऐसा क्या हुआ, जिसमें लगभग 59 हजार रुपये का खर्च आया.

वहीँ नमामि देवी नर्मदे सेवा यात्रा में पूरे समय हिस्सा लेने वाली साध्वी प्रज्ञा भारती का कहना है, “उनका आरती का प्रकल्प चल रहा है, वे नर्मदा यात्रा के दौरान दोनों समय आरती करती थीं. इसके लिए उनके साथ मंडली भी थी. उनके पास आरती स्वयं की है. घी-रुई की बाती आदि के लिए जरूर कुछ श्रद्धालु मदद करते थे. आरती के एवज में उनकी मंडली ने कोई राशि नहीं ली.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles