गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल काॅलेज में ऑक्सीजन की कमी से हुई बच्चों की मौत के मामले में डॉ. कफील खान  हीरो बनकर उभरे थे. लेकिन सीएम योगी आदित्यनाथ के दौरे के बाद उन का चरित्रहरण करने में कोई कमी नहीं छोड़ी गई.

दुनिया को इंसानियत का मतलब समझाने वाले डॉ कफ़ील खान को सीएम योगी के अस्पताल के दौरे के बाद ही अपना फर्ज निभाने की सज़ा मिल गई. उन्हें पद से हटा दिया गया. इसी बीच उन पर अस्पताल से सिलिंडर चोरी करने के आरोप से लेकर बलात्कार तक के फर्जी आरोप लगाये गए. उनका मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक ट्रायल किया गया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसी बीच अब उनकी विदेश भागने की अफवाह उड़ाई गई है. जिस पर उन्होंने आकर सफाई दी. न्यूज18 हिंदी से बात करते हुए उन्होने कहा कि मेरी मां हज करने मक्का गई थी. उन्ही को लेने लखनऊ आया हूं. वहीं पहले हमसे बातचीत में हिचकते हुए अपना लोकेशन पीजीआई इलाके में बताया.

डॉ. कफील ने बताया कि मुझे बेबुनियाद तौर पर इस घटना में बलि का बकरा बनाया गया है. मेरा कोई कसूर नहीं हैं. घटना की जांच चल रही है. 20 अगस्त को जांच कमेटी के आगे मेरा बयान दर्ज होनेवाला है. इससे पहले मै मीडिया को कोई बयान नहीं दे सकता. मैं 19 अगस्त को गोरखपुर पहुंच जाऊंगा और 20 अगस्त को डिपार्टमेंट ज्वाइन करूंगा. ये बोलकर डॉ. कफील ने हमारा फोन काट दिया.

गौरतलब रहे कि गुरुवार रात करीब दो बजे जैसे ही उन्हें ऑक्सीजन की कमी की खबर मिली. उन्होंने रात में ही निजी तौर पर ऑक्सीजन के सिलेंडर एकत्रित कर अस्पताल पहुंचाए थे. ज्सिके चलते कई मरीजों की जान बच गई थी.

Loading...