kafeel 11 1524944986 618x347

गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल के बर्खास्त पिडियाट्रीशियन डॉ. कफील खान को पुलिस ने एक बार फिर से गिरफ्तार किया है। उन पर बहराइच के जिला अस्पताल में भर्ती बच्चों की जबरन चिकित्सा करने का आरोप है। डॉ. कफील खान को उनके दो अन्य सहयोगियों सूरज पांडे और महीपाल सिंह के साथ गिरफ्तार किया गया है। हालांकि बाद में तीनों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है।

डॉ. कफील खान और उनके समर्थकों का कहना है कि वह अस्पताल में भर्ती बच्चों के अभिभावकों से बातें कर रहे थे। डॉक्टर खान के साथ-साथ उनके समर्थकों ने रहस्यमयी बुखार से साफ इनकार किया और कहा कि इस बुखार के लक्षण एनसेफालाइटिस से मिलते जुलते थे। जब पुलिस को इस मामले में जानकारी मिली थी तो डॉ. कफील खान को हिरासत में ले लिया गया और सिंभौली सुगर मिल गेस्ट हाउस में भेज दिया गया था।

वहीं डॉ. कफील के भाई अदील अहमद खान ने बताया कि “मेरे भाई को जब यह पता चला कि बहराइच जिला अस्पताल में किसी अंजान बीमारी से काफी बच्चों की मौत हो चुकी है। ऐसे में वह यह जानना चाहते थे कि क्या यह मौतें इन्सेफेलाइटिस से हुई हैं या फिर किसी और कारण से। जब वह अस्पताल में बीमार बच्चों के परिजनों से बात कर रहे थे, एक पुलिस टीम आयी और जबरदस्ती उन्हें गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई।”

af

दूसरी और बहराइच जिला अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. डीके सिंह का कहना है कि “डॉ. कफील खान और उनके साथी बाल रोग विभाग में बीमार बच्चों के परिजनों से अथॉरिटी की बिना परमिशन के सवाल जवाब कर रहे थे, जिससे वार्ड में परेशानी खड़ी हो रही थी।”

बच्चों की मौत पर डॉ. डीके सिंह ने कहा कि “अस्पताल में 1 अगस्त से 16 सितंबर के बीच करीब 71 बच्चों की मौत हो चुकी है। इनमें से 6 बच्चों की मौत इन्सेफेलाइटिस से और बाकी की अन्य कारणों से मौत हुई है।”

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें