ayo

ayo

बुधवार को उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा अयोध्या में सरकारी खर्च से दिवाली मनाए जाने को लेकर सवाल उठने शुरू हो गए है.

बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी (बीएमएसी) ने योगी सरकार पर एक धर्म विशेष की सरकार बनकर काम करने का आरोप लगाते हुए कहा कि योगी सरकार खुद को एक धर्म विशेष की सरकार समझ रहीं है जबकि भारत के संविधान के अनुसार सरकार का सम्बन्ध किसी धर्म विशेष से नहीं होता.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बीएमएसी ने योगी सरकार के अयोध्या में सरकारी खर्च से भगवान राम की विशाल मूर्ति बनाने के फैसले पर भी सवाल उठाए और  कहा कि देश के धर्मनिरपेक्ष स्वरूप तथा संविधान के अनुच्छेद 27 की सरासर अवहेलना की जा रही है.

कमेटी के संयोजक जफरयाब जिलानी ने कहा कि कमेटी ने मुस्लिम कौम से कहा है कि हालांकि उपरोक्त सभी कार्य असंवैधानिक तथा गैरकानूनी हैं लेकिन मुसलमानों की ओर से इन कार्यों को रोकने या उनमें किसी प्रकार से व्यवधान उत्पन्न करने का प्रयास ना किया जाए.

हालांकि ऐसे में सोशल मीडिया पर भी सवाल उठाना शुरू हो गए है. एक यूजर ने सवाल किया कि क्या योगी सरकार ईद को भी इसी तरह सरकारी खर्च से मनाएगी.

Loading...