Tuesday, August 3, 2021

 

 

 

दिग्विजय ने आरएसएस से रिश्तों को स्वीकारा – अच्छे नेताओं से हैं दोस्ती, बुरे नेताओं से नहीं हैं मेलमिलाप

- Advertisement -
- Advertisement -

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से अपने रिश्तें स्वीकारते हुए कहा कि उनके आरएसएस के अच्छे नेताओं से दोस्ती हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हिंसा करने वाले और झूठ बोलने वाले नेताओं से उनका कोई नाता नहीं हैं.

उन्होंने कहा, आरएसएस में हिंसा ही सिखाई जाती है. अच्छे आरएसएस वाले गोविंदाचार्य मेरे दोस्त हैं, लेकिन हिंसा करने वाले और झूठों से मेरा विरोध है. इसके साथ ही उन्होंने राज्य में आईएसआई जासूसी कांड में बीजेपी कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी को लेकर फिर से बीजेपी पर निशाना साधा हैं.

कांग्रेस महासचिव ने कहा, मध्यप्रदेश में आईएसआई जासूसी में 11 लोग पकड़े गए. इनमें चार भाजपा कार्यकर्ता थे और एक भी मुस्लिम नहीं था. अगर होता तो मीडिया हल्ला मचा देती. दिग्विजय सिंह ने सवाल पूछा कि पकड़े गए ध्रुव सक्सेना, बलराम और मोहित अग्रवाल भाजपा से जुड़े थे और हमारे लोग विरोध करने गए तो वे लोग हमें गाली बक रहे थे.

सिंह ने कहा कि कैलाश विजयवर्गीय से पूछूंगा कि बंगाल की बाल तस्करी पर वह क्या बोलते हैं. उन्होंने कहा कि कैलाश जहां भी जाता है, जगह बना लेता है.  केरल के चुने हुए सीएम के बारे में गला काटने की धमकी देने वाले आरएसएस के प्रचार प्रमुख को अभी तक गिरफ़्तार क्यों नहीं किया गया? उसे आरएसएस और भाजपा की शह मिली हुई है.

सिंह ने जीडीपी के आंकड़ों पर कहा कि इसमें भी कलाकारी की गई है. उद्योग चौपट, काम-धंधे ठप्प और नौकरी खत्म है. फिर जीडीपी कैसे बढ़ी हुई है. ये तो ऐसा हुआ कि सभी विषय में फेल और फिर भी 90 फीसदी रिजल्ट है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles