preg

मध्यप्रदेश के गुना में मानवता को शर्मसार करने वाला मामला पेश आया हैं. मानवता को शर्मसार करने वाला ये घिनोना काम किसी और ने नहीं बल्कि उसने किया हैं जिसके पेशे को भगवान की तरह पूजा जाता हैं.

रिश्वतखोरी की भूख को शांत करने के लिए स्वास्थ्य केंद्र पर एएनएम, दाई ने एक गर्भवती महिला को कड़ाके की ठण्ड में केंद्र से बाहर निकाल दिया. गर्भवती महिला ने 9 डिग्री की कड़कड़ाती सर्द रात में ग्रामीणों की मदद से सड़क पर बच्चें को जन्म दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

दरअसल, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जामनेर में शुक्रवार-शनिवार दरमियानी रात प्रसूता सुनीता पत्नी किशनलाल विश्वकर्मा के साथ स्टाफ ने अमानवीय व्यवहार किया. वापचा गांव से महिला अपने पति एवं मां धापो बाई के साथ स्वास्थ्य केंद्र रात 1 बजे के लगभग पहुंची थी. प्रसव पीड़ा से तड़प रही महिला को वहां मौजूद एएनएम सुनीता चटर्जी एवं दाई अशोक बाई को दिखाया तो 200 रुपए ले लिए. महिला जब तड़पने लगी तो एएनएम ने कहा कि प्रसव जटिलता पूर्ण हैं. 5 हजार रुपए का इंतजाम करोे. महिला के पति ने स्टाफ के हाथ भी जोड़े, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. एएनएम और दाई ने प्रसूता ने प्रसूता-परिजनों को केंद्र से धक्का देकर बाहर निकाल दिया.

नर्स को निलंबित किया है, दाई को हटा दिया है. इसके अलावा पूरे मामले की जांच के लिए 3 सदस्यीय कमेटी बनाई गई है. रिपोर्ट आने के बाद अगली कार्रवाई की जाएगी.
डॉ. पीके मिश्रा, सीएमएचओ
Loading...