सोशल मीडिया पर फोटो अपलोड करने को लेकर दारुल उलूम देवबंद ने फतवा जारी किया है. जिसमें फोटो अपलोड करने को नाजायज करार दिया गया है.

दरअसल, किसी शख्स ने दारुल उलूम से सवाल किया था कि क्या फेसबुक, व्हाट्सऐप सहित सोशल मीडिया पर अपना और महिलाओं की तस्वीरे डालना जायज है या नहीं ?

जवाब में फतवा जारी कर कहा गया कि मुस्लिम महिलाओं एवं पुरुषों को अपनी या परिवार के फोटो सोशल मीडिया पर अपलोड करना जायज नहीं है, क्योंकि इस्लाम इसकी इजाजत नहीं देता.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस संबंध में मुफ्ती तारिक कासमी का कहना है कि जब इस्लाम में बिना जरूरत के पुरुषों एवं महिलाओं के फोटो खिंचवाना ही जायज नही है. ऐसे में सोशल मीडिया पर फोटो अपलोड करना भी जायज नहीं हो सकता.

ध्यान रहे हाल ही में देवबंद ने मुस्लिम महिलाओं के आइब्रो बनवाने और हेयर कटिंग को इस्लाम के तहत नाजायज बताया था.

Loading...