modii

modii

मदरसों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फोटो लगाने के उतराखंड सरकार के आदेश पर घमासान मचा हुआ है. इस मामले में अब देवबंद ने तीखी आलोचना करते हुए कहा, लोगों को बाँटने के बजाय सरकार को विकास पर ध्यान देना चाहिए.

सोमवार को देवबंद के जामिया हुसैनिया मदरसा के मुख्य मुफ्ती तारिक काजमी ने कहा कि वे लोग कोई भी तस्वीर उनके संस्थानों में नहीं लगाते हैं. यहां तक कि उनके धार्मिक नेताओं की तस्वीर भी नहीं लगाई जाती है फिर वे प्रधानमंत्री की तस्वीर कैसे लगा सकते हैं?

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

काजमी ने कहा कि वह उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के बयान के खिलाफ हैं. काजमी ने कहा कि किसी को भी इस तरह की मांग नहीं करनी चाहिए. यह सब उनके धर्म के खिलाफ है. सरकार जब कोई आदेश देती है, तो उन्हें आदेश इस तरह से देना चाहिए कि किसी की धार्मिक भावनाएं आहत न हों.

उत्तराखंड मदरसा बोर्ड के डिप्टी रजिस्ट्रार अखलाक अहमद ने कहा कि इस्लाम के तहत मस्जिदों और मदरसों के अंदर जीवित चीजों या इंसानों की तस्वीरें लगाने पर पाबंदी है. उन्होंने बताया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर उत्तराखंड मदरसा बोर्ड के कार्यालय और जिलों में स्थित बोर्ड कार्यालयों में लगी हुई हैं.’

अखलाक ने कहा कि वह किसी व्यक्ति विशेष के खिलाफ नहीं हैं और यह विशुद्ध रूप से धार्मिक आस्था के कारण है. इस्लाम मस्जिदों और मदरसों के अंदर धार्मिक नेताओं सहित किसी भी जीवित वस्तु या इंसान की तस्वीरें लगाने की इजाजत नहीं देता.

Loading...