content nanded 03

महाराष्ट्र में मराठा समाज की और से आरक्षण की मांग के बीच अब मुस्लिमों समुदाय की और से भी आरक्षण की मांग तेज होती जा रही है। 5 फीसदी आरक्षण की मांग को लेकर राज्य के 60 मुस्लिम संगठनों ने अपना एक फोरम का गठन किया है। जो अब राज्य सरकार के खिलाफ अपना मोर्चा खोलेगा।

बता दें कि कांग्रेस और एनसीपी की गठबंधन सरकार ने 2014 में चुनाव के ठीक पहले मराठा आरक्षण के साथ मुस्लिमों को भी शिक्षा और रोजगार में 5 फीसदी आरक्षण दिया था। लेकिन अदालत ने रोजगार में 5 फीसदी आरक्षण पर रोक लगा दी थी, लेकिन शिक्षा में आरक्षण पर कोई रोक नहीं लगी। बावजूद शिक्षा में आरक्षण लागू नहीं किया गया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

कांग्रेस के राज्यसभा सांसद हुसैन दलवई ने बताया कि मुस्लिम समाज लंबे समय से आरक्षण की मांग कर रहा है। उन्होंने कहा कि अब विधिवत तरीके से आरक्षण की लड़ाई लड़ी जाएगी। ध्यान रहे मुस्लिम आरक्षण की मांग को शिवसेना भी अपना समर्थन दे चुकी है।

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने  कहा, ‘मराठा के अलावा धांगड़, मुस्लिम और अन्‍य समुदायों के आरक्षण की मांग पर भी गौर करना चाहिए। हमारी पार्टी इस मसले पर केंद्र सरकार का पूरा समर्थन करेगी।’ मुस्लिमों को आरक्षण देने के मुद्दे पर उद्धव ने कहा कि यदि उनकी मांग तर्कपूर्ण और जायज है तो उस पर विचार किया जाना चाहिए।

Loading...