darang

darang

असम के दरांग जिले के धुला में पुलिस हिरासत में मुस्लिम युवक की मौत के बाद इलाके में तनाव पसरा हुआ है.

दरअसल, धौला पुलिस स्टेशन में मंगलवार की रात हिरासत में लिए हुए हसन अली की मौत के बाद गुस्साए लोगों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया था. साथ ही स्थानीय लोगों ने राष्ट्रीय राजमार्ग 15 को विरोधस्वरूप बंद कर दिया था ताकि दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जा सके.

लेकिन पुलिस की कार्रवाई के बाद प्रदर्शनकारी उग्र हो गए और उन्होंने पुलिस थाने पर हमला कर दिया. पुलिस की गोलीबारी में एक 14 साल की लड़की सहित दो व्यक्ति की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए.

ध्यान रहे बंगाली मूल का हसन कर्नाटक में मजदूरी करता था. पुलिस ने अवैध हथियार रखने के आरोप में उसे हिरासत में लिए था. पुलिसकर्मियों की ज्यादा मारपीट से वह गंभीर रूप से घायल हो गया था. जिसके बाद पुलिस ने उसे इलाज के लिए गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया. लेकिन उसकी मौत हो गई.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अवैध हथियारों के होने के संदेह में पुलिस ने अली के घर की तलाशी भी ली थी. राज्य सरकार ने पुलिस गोलीबारी में नागरिक मौत की मैजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए है.

Loading...