kalpana tiwari 620x400

राजधानी लखनऊ में शनिवार तड़के यूपी पुलिस के कांस्टेबल के हाथों मारे गए एप्पल के सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी की हत्या के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जरूरत पड़ने पर सीबीआई जांच की बात कहीं है। वहीं दूसरी और परिजनों ने योगी सरकार के सामने कई मांगे रख दी है।

परिजनों ने एक करोड़ रुपये और विवेक तिवारी की पत्नी को सरकारी नौकरी दिए जाने और पूरे मामले की सीबीआई जांच की मांग उठाई है। तिवारी की पत्नी ने कहा है कि वह खुद मुख्यमंत्री योगी से मिलना चाहती हैं। उन्होंने कहा, “उप्र की पुलिस इस तरह किसी की हत्या कैसे कर सकती है।”

कल्पना तिवारी ने कहा कि पुलिस को मेरे पति को मारने का कोई हक नहीं था। मैं यूपी के सीएम से मांग करती हूं कि वह यहां आएं और मुझसे बात करें। उन्होंने कहा कि पुलिस ने सामने से गोली मारी है। उन्होंने कहा कि पुलिस कह रही थी कि मेरे पति आपत्तिजनक अवस्था में पाये गये थे।  तो मैं कहती हूं कि आपने उन्हें पकड़ा क्यों नहीं। क्या कार को नहीं रोकना क्या कोई अपराध है? मैं मुख्यमंत्री से पूछना चाहती हूं कि यह किस तरह की कानून-व्यवस्था है।”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि लखनऊ के गोमतीनगर विस्तार के मकदूमपुर पुलिस चौकी के पास कार सवार विवेक तिवारी को पुलिस कॉन्स्‍टेबल प्रशांत चौधरी ने गोली मार दी थी। उसका कहना है कि उसे संदिग्ध रूप से कार खड़ी दिखाई दी थी। जिसकी जब वह जांच करने गया तो विवेक ने उस पर कार चढ़ाकर उसे मारने की कोशिश की। इसके बाद उसने बचाव में विवेक पर गोली चलाई। इस दौरान विवेक के साथ उसकी महिला सहयोगी भी थी। उसे पुलिस ने नजरबंद कर रखा है। घटना के बाद पुलिस की गोली से घायल हुए युवक को आनन-फानन में लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

हादसे के वक्त विवेक तिवारी के साथ रहीं सना की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर गोलीबारी करने वाले कांस्टेबल प्रशांत कुमार और संदीप को गिरफ्तार कर लिया है।

Loading...