गोरखपुर के मेडिकल कॉलेज में 70 से ज्यादा बच्चों की मौत के मामले में योगी सरकार ऑक्सीजन की कमी को शुरू से ही नकारती है. लेकिन एक बार फिर से सच सामने आया है.

DGME की रिपोर्ट और 12 पन्नों की एफआईआर में खुलासा हुआ है कि बच्चों की मौत ऑक्सीजन सप्लाई बाधित होने से ही हुई थी, हालांकि रिपोर्ट ने इस आरोप को खारिज किया गया है कि स्टोर में ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अब ऐसे में योगी सरकार के दावों पर कई गंभीर सवाल भी उठ रहे है. जिसे योगी सरकार फंसती नजर आ रही है. याद रहे इस सबंध में ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कम्पनी सहित 9 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई हैं.

ऐसे में सवाल उठता है कि ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी नहीं थी तो फिर ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी के खिलाफ एफआईआर क्यों दर्ज की गई ?

ऑक्सीजन सिलेंडर होने के बावजूद ऑक्सीजन की सप्लाई बाधित क्यों हुई? साथ ही फिर ऐसा क्यों कहा गया कि बच्चों की मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई?

Loading...