अजमेर 5 अप्रेल। मुस्लिमों से बीफ छोड़ने की अपील करने तथा तीन तलाक के मामले पर ब्यान देने वाले अजमेर की सूफी संत हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन की दरगाह के दीवान सैयद जैनुल आबेदीन अली खान ने उनको पद से हटाऐ जाने की खबर का खंडन करते हुऐ कहा कि यह केवल इस्लामिक कटटरपंथियों की साजिश है। उन्होने कहा कि वह आज भी सज्जादानषीन हैं और मृत्यु तक रहेंगे दरगाह दीवान ने अपने पुत्र को अपना उत्तराधिकारी और दरगाह दीवान घोषित किया।

बुधवार को हवेली दीवान साहब में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में दीवान आबेदीन ने कहा कि वह हमेशा इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर रहे हैं और देशहित दिये गऐ ब्यानों से हमेशा कट्टरपंथियों तकलीफ रहती है, और वही ताकतें अकसर इस तरह के भ्रामक प्रचार से उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुचाने की कुचैष्ठा करते रहते है। उन्होने साफ तौर पर कहा कि दरगाह दीवान का पद एक धार्मिक पद होते हुऐ वंशानुगत है जिसे देश के सर्वोच्च न्यायालय नें 1987 में निर्णित किया हुआ है। जिसके तहत दीवान को हटाने का अधिकार किसी को नहीं है इसलिये उन्हे दरगाह के आध्यात्मीक प्रमुख पद से हटा देने का ब्यान हास्यपद होते हुऐ इस्लामिक कट्टरपंथियों की साजिश मात्र है।

उन्होने कहा कि मेने सरकार से देश में गौवंश के वध और इनके मांस की बिक्री पर रोक लगाने की मांग करते हुए मुस्लिम समाज से कहा कि वे पहल करे ताकि बीफ को लेकर दो समुदायों के बीच पनप रहे वैमनस्य पर विराम लगे साथ ही उन्होने एक मजलिस मे तीन तलाक को शरीयत के स्थापित नियमो के खिलाफ बताया है और वह आज भी उस पर कायम है। और इस्लाम के मसाईल पर यदि कट्टरपंथी विचारधारा के लोग धर्म के नाम पर समाज में किसी प्रकार का भ्रम पैदा करने की कोशिश करेगें तो वह हमेशा उनहे इसी तरह जवाब देते रहेंगे।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

दरगाह दीवान ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वह देश के सर्वोच्च न्यायालय के आदेश से ख्वाजा साहब के वंशानुगत सज्जादानषीन के पद पर पदासीन हैं और मृत्यु तक रहेंगे फिर भी किसी प्रकार के भ्रम ना रहे इसलिये वह अपने ज्येष्ठ पुत्र सैयद नसीरूद्दीन चिश्ती को अपना उत्तराधिकारी होने की घोषणा करते है जो वर्तमान में मेरी गैर मोजूदगी मे दरगाह की समस्त धार्मिक रस्मे अंजाम देते है। उन्होने उनके छोटे भाई एस.ए.अलीमी द्वारा दरगाह दीवान को उनके पद से हटा देने की खबर को सिरे से खारिज करते हुऐ कहा कि दरगाह दीवान को उनके पद से उनके भाई किसी को भी नियुक्त करने या हटा देने का कोई विधिक अधिकार नही है इसलिये उनके द्वारा दरगाह दीवान को हटाने के ब्यान की कोई वेधानिकता नही है इस लिये किसी को भ्रमित नहीं होना चाहिये।

Loading...