Saturday, October 23, 2021

 

 

 

अफ़राजुल की हत्या तालिबानी आतंक का रूप, सरकार करे कड़ी कार्रवाई: दरगाह दीवान

- Advertisement -
- Advertisement -

dewan sb.2015a

अजमेर 11 दिसम्बर । अजमेर दरगाह के आध्यात्मिक प्रमुख दरगाह दीवान ने राजसमंद में हुई अफराजुल की बेरहमी से हत्या की कड़े शब्दों में निन्दा करते हुए कहा की एक सभ्य समाज में एसी घटना पूरे समाज को कलंकित करने वाली है। जिस को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है अतिवादी ने जिस तरह जघन्य हत्या कर वीडियो वायरल किया वह तालिबानी आतंकी झलक है।

सूफी संत हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की के वंशज एवं वंशानुगत सज्जादा नशीन ने कहा कि इस निर्मम हत्या ने इस देश में नफरत का बीज बोने का काम किया है। इस प्रकार का कृत्य धार्मिक भावनाएं भड़काने वाला है। सरकार  को इस पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही करते हुए एक मिसाल क़याम करनी चाहिए कि एसी घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो और समाज में आपसी सौहार्द और भाई चारा बना रहे।

दरगाह दीवान सैयद जैनुल आबेदीन अली खान ने कहा की अफ़राजुल को शंभूलाल ने जिस प्रकार से क़त्ल किया और साथ ही उस पूरी घटना का वीडियो बनाया वह तालिबानी आतंक से  कम नहीं है। उन्होंने कहा तालिबानी आतंकी भी इसी तरह निर्दोष लोगों का कत्ल करते हैं और वीडियो बनाकर दहशतगर्दी के लिए वायरल करते हैं। शंभूलाल ने भी उसी तरह तालिबानी आतंकवाद का अनुसरण करते हुए अपने घिनौने कृत्य का वीडियो बनाकर दहशत फैलाने का काम किया है जबकि हमारे भारत देश जिस देश की गंगा जमनी तहज़ीब दुनिया के लिए एक मिसाल है उसी देश में लोग इतने बेरहम हो रहे है यह हमारे पूरे देश के लिए चिंता का विषय है और पूरे समाज और राजनीतिक दलो को इस पर गहरा चिंतन करने की आवश्यकता है कि हम हमारे देश को किस दिशा में लेकर जा रहे है। आज इंसान इंसानियत को भूलकर जानवर का रूप धारण कर रहा  है।

दीवान ने राजस्थान सरकार से मांग करते हुए कहा की राजसमंद की घटना दिल दहला देने वाली है किसी सभ्य समाज मे ऐसी दरिन्दगी स्वीकार नही की जा सकती इसलिए सरकार को सरकार को कड़े कदम उठाते हुए त्वरित कार्यवाही करनी चाहिए क्योंकि ऐसी घटनाओं से पूरे प्रांत में माहौल खराब हो सकता है। क्योंकि ऐसे संवेदनशील मुद्दों का फायदा उठा कर सांप्रदायिक तत्व प्रदेश का माहौल खराब करने पर आमादा है।

उनहोने समाज के हर ज़िम्मेदार और सभी धर्मों के संगठन से एसे घिनोने कृत्य की निंदा करने की अपील की है। साथ ही दरगाह दीवान ने उनके द्वारा संचालित हज़रत ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिशती ट्रस्ट की तरफ़ से अफ़राजुल के परिवार को 51 हज़ार की सहायता राशि  देने की घोषणा की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles