dall

उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के रसड़ा में दलित संगठन अम्बेडकर समाज पार्टी ने बीते दिनों संविधान जलाने के विरोध में हिंदुओं के धार्मिक ग्रंथ को जलाकर अपना विरोध जताया।

पत्रिका की रिपोर्ट के अनुसार, रसड़ा थाना क्षेत्र में प्यारेलाल चौराहे पर अम्बेडकर समाज पार्टी के कार्यकर्ताओं ने रामायण और गीता समेत हिंदू देवी-देवताओं से जुड़ी कई तस्वीरों को जलाया। इतना ही नहीं चप्पलों से धार्मिक ग्रंथ का भी अपमान किया गया।

अम्बेडकर समाज पार्टी से जुड़े लोगों ने कहा कि नौ अगस्त को दिल्ली में भारतीय संविधान को जलाया गया था। इसी के खिलाफ हम लोगों ने रामायण और गीता का दहन किय़ा है। अपने धर्म के ग्रंथ को जलाने के सवाल पर उन्होने कहा, हम हिंदू नहीं दलित हैं।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दे कि 9 अगस्त को जंतर मंतर पर ST-SC एक्ट के विरोध में प्रदर्शन करते हुए संविधान की प्रति जलाई गई थी। ये पूरा प्रदर्शन दिल्ली पुलिस की मौजूदगी में हुआ था। इस घटना का विडियो वायरल हुआ था।

इस मामले में पुलिस ने अखिल भारतीय भीम सेना के राष्ट्रीय प्रभारी अनिल तंवर की शिकायत पर यूथ फॉर इक्वॉलिटी संगठन के कुछ सदस्यों के खिलाफ आईपीसी 153(ए), 505 की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था।

Loading...