चंडीगढ़: पंजाब के संगरूर जिले में एक 37 वर्षीय दलित को खंभे से बांधकर कर पिटाई करने और पेशाब पीने को मजबूर करने का मामला सामने आया है।

पुलिस ने शुक्रवार को जानकारी देते हुए बताया कि पीड़ित छांगलीवाला गांव का रहने वाला है और रिंकू नामक शख्स एवं कुछ अन्य लोगों के साथ उसका विवाद था। पीड़ित ने पुलिस को बताया कि सात नवंबर को रिंकू ने विवाद पर बात करने के लिए अपने घर बुलाया।

पीड़ित ने आरोप लगाया कि जब वह घर पहुंचा तो चार लोगों ने उसकी पिटाई की और खंभे से बांध दिया। जब उसने पानी मांगा तो उसे पेशाब पीने को मजबूर किया गया।पुलिस ने बताया कि चार लोगों के खिलाफ अवैध तरीके से बंधक बनाने और भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के साथ-साथ अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत लेहरा थाने में मामला दर्ज किया गया है।

आरोपियों की पहचान रिंकू, अमरजीत सिंह, लकी उर्फ ​​गोली और बीता उर्फ ​​बिंदर के रूप में हुई है, जो चंगालीवाला गांव के निवासी हैं। डीएसपी ने गुरुवार को कहा, “हम आरोपों की जांच कर रहे हैं लेकिन अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।”

पंजाब अनुसूचित जाति आयोग ने भी संगरूर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से मामले में रिपोर्ट देने को कहा है। आयोग की अध्यक्ष तेजिंदर कौर ने एक बयान में कहा कि मीडिया में आई खबरों से घटना की जानकारी मिली जिसके आधार पर स्व संज्ञान लेकर रिपोर्ट तलब की गयी है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन