किसी भी देश की प्रगति के लिए शिक्षा सबसे अहम होती है. इस बात को ध्यान में रखते हुए सर्व शिक्षा अभियान के तहत नारा दिया गया था कि पढ़ेगा इंडिया बढ़ेगा इंडिया. लेकिन उत्तरप्रदेश सरकार के लिए शिक्षा के बजाय प्रदेश की तरक्की  में गायों की ज्यादा अहमियत है.

दरअसल सूबे के लखीमपुर खीरी जिले में स्कूलों में गाये बांधी जा रही है. जिले में हजारों आवारा गाये हो चुकी है. जो किसानों की फसलों का नुक्सान कर रही है. ऐसे में गुस्साए ग्रामीणों ने गायों को इक्कठा कर स्कूलों का कमरों में बंद कर दिया.

बेसिक शिक्षा अधिकारी बुधप्रिय सिंह ने कहा, ‘सकेथू गांव में स्थित प्राइमरी स्कूल पर गुस्साए गांव वालों ने कब्जा जमा लिया और परिसर के अंदर पशुओं को बंद कर दिया. इसके चलते छात्रों को वापस अपने घर लौटना पड़ा.’ इस दौरान नाखा पुलिस चौकी के इंचार्ज ने उन्हें समझाने की कोशिश की लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ.

लखीमपुर खीरी जिले के डीएम आकाशदीप ने कहा, ‘आवारा पशुओं का मामला गंभीर मुद्दा है. अब कुछ स्थानीय एनजीओ और अन्य समूहों से पशुओं के लिए कुछ शेल्टर हाउस तैयार करने को लेकर बात कर रहे हैं. इस मामले की जानकारी हमने प्रदेश सरकार को भी दी है.’

गौरतलब रहें कि जिले से यह चौथा ऐसा मामला सामने आया है, जब किसानों ने आवारा पशुओं को स्कूल परिसर में ही बंद कर दिया.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?