यूपी में अवैध बूचड़खानों पर चल रही कार्रवाई के बीच गुजरात विधानसभा गोकशी के खिलाफ गोहत्‍या संशोधन बिल पास कर सख्त कानून बनाया गया हैं. इस कानून के तहत अब गौहत्या करने वालों को सख्त सज़ा मिलेगी.

सत्र के आखिरी दिन विधानसभा में गुजरात पशु संरक्षण एक्‍ट (1954) के संशोधित कानून को पास किया गया. इस नए कानून के तहत अब गोकशी के दोषियों को उम्रकैद की सजा का प्रावधान किया गया है. अब गोवंश के साथ पकड़े जाने पर जमानत नहीं मिल सकती है.

नए कानून के अनुसार, मांस की हेराफेरी करते हुए पकड़े जाने पर सात से 10 साल तक की सजा और एक से पांच लाख तक का दंड का प्रावधान किया गया हैं. इसके अलावा  गौमांस का ट्रांसफर करते हुए जो वाहन पकड़े जाएंगे वो वाहन हमेशा के लिए सरकार में जब्‍त हो जाएंगे.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अगर जानवरों को लाने-ले जाने से संबंधित लाइसेंस भी है तब भी गायों को शाम सात बजे से सुबह पांच बजे तक कहीं नहीं ले जाया जा सकता है. पुराने कानून में गोहत्या करने पर सात साल की सज़ा का प्रावधान था. अब सात साल की सज़ा को बढ़ाकर उम्रकैद कर दिया गया है. साथ ही गोहत्या करने वालों को पचास हजार रूपए देना होता था, लेकिन अब जुर्माना राशि बढ़ाकर एक लाख से पांच लाख तक कर दिया गया है.

Loading...