गुजरात विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चूका है. ऐसे में अब पुरे जोश के साथ नेता चुनाव जीतने में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहते है. ऐसे में ये नेता जोश-जोश में होश खो बैठते है. ऐसा उस वक्त देखने को मिला जब बीजेपी नेता ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि 1947 में कांग्रेस नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाना चाहती थी.

दरअसल, गुजरात के भाजपा मंत्री बाबू बोखिरिया एक जनसभा को संबोधित करने के लिए पहुंचे तो उन्होंने कहा कि आजादी के बाद साल 1947 में ही कांग्रेस नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाना चाहती थी. हालांकि वे सरदार पटेल का नाम लेना चाहते थे. लेकिन उनसे नरेंद्र मोदी का नाम निकल गया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ये घटना पोरबंदर में हुई. जहाँ गुजराती नए साल के अवसर पर राज्य के कृषि मंत्री बाबू बोखरिया मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे थे. इस दौरान बोखरिया ने कहा कि 1947 में जब देश आजाद हुआ तो ज्यादातर कांग्रेसी चाहते थे कि नरेंद्र भाई मोदी प्रधानमंत्री बनें.

आप को बता दें कि नरेंद्र मोदी का जन्म आजादी मिलने के पूरे तीन साल एक महीने और दो दिन बाद 17 सितंबर 1950 को हुआ था. ऐसे में बोखरिया के बयान को लेकर बीजेपी की जमकर किरकिरी हो रही है. दरअसल, बोखरिया पटेल के जरिए पाटीदारों को लुभाना चाहते थे. इसके लिए उन्होंने गांधी परिवार को निशाने पर लिया था.

बोखिरिया नरेंद्र मोदी के गुजरात मुख्यमंत्री के कार्यकाल के दौरान भी मंत्री थे. बोखिरिया को 54 करोड़ रुपए के गैरकानूनी रूप से चूना पत्थर खनन केस में आरोपी बनाया गया था. जिसके बाद पोरबंदर की एक कोर्ट ने उन्हें तीन साल जेल की सजा सुनाई थी.