देश की प्रसिद्ध अधिवक्ता फ्लैविया एग्नेस ने मुस्लिम पर्सनल लॉ को सभी धर्मों की तुलना में सबसे ज्यादा प्रोग्रसिव करार दिया हैं. उन्होंने कहा कि मैं सभी पर्सनल लॉ में मुस्लिम लॉ को सबसे ज्यादा प्रगतिशील मानती हूँ.

कोलकाता की आलिया यूनिवर्सिटी में आयोजित एक सेमीनार में एग्नेस ने कहा कि कानून बनाकर तीन तलाक़ को रोकने कोई फायदा नहीं होगा. क्योंकि ऐसी सूरत में मुस्लिम पुरुष अपनी पत्नियों को छोड़ना शुरू कर सकते हैं जैसे पीएम मोदी ने अपनी पत्नी को बिना तलाक़ दिए छोड़ दिया.
उन्होंने मीडिया की आलोचना करते हुए कहा कि मीडिया को इस विषय पर बिल्कुल भी जानकारी नहीं है. उन्होंने आरोप लगाया कि मीडिया आज राजनेताओं के हाथों की कठपुतली बन चुका है जो सिर्फ मुस्लिम महिलाओं से जुड़ी नकारात्मक रिपोर्ट पेश कर रहा है.
गौरतलब रहें कि एग्नेस महिलाओं के मुद्दों पर काम करती हैं. साथ ही वे महिलाओं से जुड़े मुद्दो पर अपने लेख में लिखा भी करती हैं.
Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें