उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनाव करीब आते ही विश्व हिन्दू परिषद को ‘राम मंदिर’ याद आ ही गया. इलाहाबाद में माघ मेला में सोमवार को परिषद की और से अखिल भारतीय धर्माचार्य संपर्क प्रमुखों की बैठक बुलाई गई.

बैठक के उद्घाटन सत्र में स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने कहा कि अब समय आ गया है कि देश के 600 जिलों में संपर्क प्रमुखों की टोली बनाई जाए, ताकि ये टोली श्री राम जन्मभूमि पर भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए लोगों के बीच जाकर उन्हें प्रेरित करे.

बैठक में फैसला हुआ कि देश भर के 600 जिलों में संपर्क प्रमुख की टोली में सिर्फ संत ही रहेंगे. विहिप के अंतर्राष्ट्रीय महामंत्री चंपत राय ने कहा कि संत समाज ही समाज को प्रेरणा देता है और हिंदू समाज की रक्षा संतों के मार्गदर्शन से होती है.

उन्होंने आगे कहा कि समय-समय पर हिंदू संस्कृति की रक्षा के लिए संतों ने समाज को प्रेरित एवं आंदोलित किया है. गौ, गंगा, समरसता के लिए संतों ने भी आंदोलन किया है. उन्होंने कहा कि राम जन्म भूमि पर निर्णय माननीय न्यायालय को करना है। कानून, निर्णय दोनों के साथ संतों एवं हिंदू समाज की सजगता ही हिंदू संस्कृति है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें