kohh

kohh

झारखंड के सिमडेगा का कारीमाटी  गाँव बीते दो दिनों से लगातार सुर्ख़ियों में है. जिसकी वजह खाना न मिलने के कारण एक आदिवासी बच्ची की मौत है.

दरअसल, राशन कार्ड के आधार से लिंक नहीं होने की वजह से परिवार को बीते 6 महीने से राशन नहीं मिल रहा था. दशहरें पर स्कूल की छुट्टियाँ लगने से बच्ची को ब4-5 दिनों में कुछ भी खाने को नहीं मिला. ऐसे में बच्ची की तड़प-तड़प कर मौत हो गई.

लेकिन आदिवासी परिवार की मुसीबत यहाँ खत्म नहीं हुई, बल्कि मुसीबतों का एक सिलसिला शुरू हो गया. बच्ची की मौत के बाद गाँव वालो ने बच्ची की मां सहित पुरे परिवार को गाँव से बाहर निकाल दिया.

ग्रामीणों ने महिला पर गांव को बदनाम करने का आरोप लगाते हुए गाँव से निकाल दिया. जिसके बाद महिला ने पंचायत घर में शरण ली हुई है. सिमडेगा जिला प्रशासन ने स्थानीय अधिकारियों से मामले की जांच करने को कहा है.

सिमडेगा जिला प्रशासन ने कहा कि बच्ची संतोषी मलेरिया से पीड़ित थी और उसी बीमारी के कारण उसकी मौत हुई है. वहीँ घटना की स्वतंत्र जांच करने वाली फैक्ट-फाइंडिंग टीम ने भी माना कि बच्ची की मौत भूख से ही हुई.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?