(FILES) In this file picture taken on October 31, 2008Chief of India's Maharashtra Navnirman Sena (MNS), Raj Thackeray gestures during a press conference in Mumbai. Parochial identity politics are gripping India's most cosmopolitan city, Mumbai, stoking fears that intimidation and deadly violence used for local ends are threatening a fragile sense of national unity. At the centre of the row is Raj Thackeray, the leader of the Maharashtra Navnirman Sena (MNS) party, who pushes a hard line of more jobs for people from Maharashtra state, of which Mumbai is the capital, and vigorously promotes the local Marathi language. AFP PHOTO/Indranil MUKHERJEE (Photo credit should read INDRANIL MUKHERJEE/AFP/Getty Images)

महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में करारी हार झेल चुकी राज ठाकरे की महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने BMC चुनाव  के करीब आते ही तुष्टिकरण की राजनीती करने के लिए कमर कस ली हैं.

इसी कड़ी में मनसे ने मराठी मानुष का मुद्दा फिर से बाहर निकाल लिया हैं और इसी के तहत उत्तर भारतीयों को एक बार फिर से निशाना बनाना शुरू कर दिया हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

शहर के घाटकोपर इलाके के अमृतनगर में एक गरीब उत्तर भारतीय फलवाले को मराठी किसानों के हक के मुद्दे का हवाला देकर उसके साथ बुरी तरह से पिटाई की और उसका ठेला भी तोड़ दिया.

मनसे कार्यकर्ताओं ने इस मामले को लेकर कहा कि फल की रेहड़ी लगाने का हक मराठी किसान को है. साथ ही धमकी दी कि मुंबई में किसी उत्तर भारतीय को ठेला नहीं लगाने दिया जायेंगा.

इस घटना को लेकर जदयू नेता अली अनवर ने सत्ताधारी भाजपा सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि पूरे देश में पार्टी के लोग उफान पर हैं और धर्म, जाति के नाम पर मारपीट कर रहे हैं.

Loading...