समस्तीपुर: देशभर में जारी लॉकडाउन के बीच अपने-अपने गृह राज्य लौट रहे प्रवासियों को क्वारंटाइन सेंटर में रखा जा रहा है। हालांकि इन संस्थागत क्वारंटाइन सेंटर में रह रहे मजदूरों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी ही एक घटना बीते दिन समस्तीपुर जिला स्थित सिंघिया फुलहारा क्वारंटाइन सेंटर में देखने को मिली। जहां पानी को लेकर क्वारंटाइन सेंटर में ही खूनी जंग छिड़ गई और कई लोग घायल हो गए।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार,  इस सेंटर में लगभग 150 प्रवासी मजदूरों को रखा गया है। सेंटर में पानी का अभाव है। शनिवार को पानी की गाड़ी आने पर पानी के लिए लोगों ने एक-दूसरे पर लाठी-डंडे चलाना शुरु कर दिया। इस घटना में कई लोग घायल हो गए हैं। बताया जा रहा है कि पानी भरने को लेकर दो पक्षो में लड़ाई हो गई और मारपीट होने लगी। पुलिस के आने के बाद मामला शांत हुआ।

राज्य में शनिवार की देर रात तक 145 और कोरोना पॉजिटिव मिले। यह अब तक एक दिन में सबसे अधिक मरीज हैं। इससे पहले 12 मई को 130 कोरोना पॉजिटिव मिले थे। बिहार में संक्रमण का आंकड़ा बढ़कर एक 1178 हो गया है।पटना के सात नए कोरोना मरीज शामिल हैं, जिनमें बीएमपी-14 के पांच जवानों के अलावा बख्तियारपुर की 14 महीने की बच्ची व नौबतपुर का 20 वर्षीय युवक शामिल है। पिछले आठ दिनों में अधिकतर बाहर से लौटने वाले प्रवासी मजदूर हैं। वहीं राज्य में कोरोना महामारी से अब तक सात लोगों की मौ’त हो चुकी है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, बिहार में कुल ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 453 हो गई है। राज्य के सभी 38 जिलों में कोरोना ने दस्तक दे दी है। राज्य में कोरोना संक्रमण के 33 नए मामले 10 जिलों से सामने आए हैं। जमुई जिले के खैरा और जमुई सदर से एक-एक केस आये हैं जबकि पटना के नौबतपुर में भी एक 20 साल के युवक को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है।

शनिवार को ही आपदा राहत विभाग द्वारा निर्देश जारी किया गया कि अगर इन केंद्रों में बासी खाना दिया गया तो उस केंद्र के संचालक के खिलाफ कार्रवाई होगी। विभाग ने इससे पूर्व हंगामा करने वालों या भाग जाने वालों को उनका टिकट और उसके अतिरिक्त 500 रुपये न दिए जाने की भी बात कही।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन