वंदे मातरम को लेकर महाराष्ट्र में बवाल मचा हुआ है. अब मुंबई में बीजेपी एमसी समेत सभी अनुदानित स्कूलों में वंदे मातरम गाना अनिवार्य करने की मांग को लेकर प्रस्ताव लाई है.

बीजेपी नगरसेवक संदीप पटेल ने अपने प्रस्ताव में कहा कि देशभक्ति की ज्योति भावी पीढ़ी में बनाए रखने के लिए सप्ताह में दो दिन स्कूलों में वंदे मातरम गाया जाना चाहिए. बीएमसी सभागृह की तर्ज पर स्थायी, सुधार समेत अन्य सभी समितियों में भी इससे ही कामकाज की शुरुआत की जानी चाहिए.

हालांकि महाराष्ट्र में वंदे मातरम को लेकर उपजे तनाव के बीच केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले पहले ही कह चुके है कि समुदायों के बीच शत्रुता पैदा करने के लिए जानबूझाकर राष्ट्रीय गीत के मुद्दे को उठाया जा रहा है. उन्होने कहा कि किसी को वंदे मातरम् गाना चाहिए लेकिन अगर कोई नहीं गाता है तो इसमें क्या गलत हो जाएगा.

 वहीँ केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा था कि यह किसी व्यक्ति की पसंद के ऊपर निर्भर करता है कि वह वंदे मातरम गाना चाहता है या नहीं लेकिन वंदे मातरम का विरोध करने को भी देशभक्ति नहीं कहा जा सकता है. अगर कोई व्यक्ति वंदे मातरम नहीं गाता है तो हम उसे देशद्रोही या राष्ट्रविरोधी करार नहीं दे सकते. यह एक व्यक्ति की स्वतंत्रता है कि वह वंदे मातरम को गाने या ना गाने का फैसला करे .

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?