उत्तरप्रदेश के इलाहबाद और कौशांबी में जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुखों के चुनाव में भाजपा को करारी हार मिली है. भाजपा इन चुनावो में एक सीट भी नहीं जीत पाई है.

लालगंज विकासखंड सीट पर काबिज बीजेपी समर्थित प्रत्याशी के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव में तीन गुने से ज्यादा वोट अविश्वास पक्ष में पड़े. बीजेपी समर्थित प्रत्याशी रमेश प्रताप सिंह के खिलाफ 53 वोट पड़े. उन्हें केवल 16 वोट ही मिले.

बीजेपी की हार और अपनी बड़ी जीत को लेकर कांग्रेस गदगद है. कांग्रेसियों ने इसे लोकतंत्र की जीत करार दिया. साथ ही बीजेपी ने अपनी नीतियों के तहत हार माना.

इस जीत के पीछे कांग्रेस विधायक मोना और कांग्रेस के दिग्गज नेता प्रमोद तिवारी का दिमाग बताया जा रहा है. इन दोनों की सियासी चालों से ही बीजेपी को मात मिली है.

हालंकि कांग्रेस अभी जिस अवस्था में हैं उसके लिए यह जीत कोई मायने नहीं रखती. कांग्रेस को और मेहनत करने की जरुरत है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?