राजस्थान में शराबबंदी की मांग को लेकर जगह-जगह पर आंदोलन हो रहे हैं. वहीँ राजस्थान के उद्योग मंत्री गजेन्द्र सिंह खींवसर का बयान सामने आया हैं जिसमे उन्होंने शराब पीने को मोलिक अधिकार बताया हैं. उन्होंने कहा कि जिन जगहों पर शराबबंदी हुई वहां युवाओं ने व्यसन के गलत तरीके अपना लिए हैं. उन्होंने शराबबंदी को शराब पीने से रोकने का कारगर हथियार मानने से भी इनकार कर दिया.

उनके इस बयान की निंदा की जा रही हैं. प्रदेश कांग्रेस ने कहा कि सरकार में बैठे मंत्री ऐसे बयान देकर प्रदेश में शराब संस्कृति को हतोत्साहित करने के बजाए बढ़ावा दे रहे हैं. गौरतलब कि शराबबंदी की मांग पर ही राजस्थान में पूर्व विधायक गुरुशरण छाबड़ा ने अपनी जान की परवाह नहीं की. छाबड़ा परिवार के सदस्य के आह्वान पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार जल्द ही शराबबंदी आन्दोलन को लेकर राजस्थान की यात्रा पर आने वाले हैं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?