सत्ता क्या हाथ में आई बीजेपी विधायक बृजेश सिंह देश के संविधान और कानून को अपने घर की ताक में रख अपनी मनमानी पर ही आमदा हो गए.

देवबंद से विधायक चुने जाने के बाद, बृजेश सिंह के पुरे शहर में आभार पोस्टर लगाए गए. लेकिन इन पोस्टर पर शहर का नाम देवबंद से बदलकर ‘देववृंद’ लिखा गया. याद रहे बृजेश सिंह देवबंद का नाम देववृंद करने की मांग उठा चुके हैं. चुनाव जीतने के बाद उन्होंने देवबंद का नाम बदलने की भी घोषणा की थी.

बृजेश सिंह लंबे समय से कहते आ रहे हैं कि ये इलाका दारुल ऊलूम देवबंद से ज्यादा महाभारत से जुड़े होने की वजह से मशहूर है. उन्होंने कहा था कि देवबंद के नाम को बदलने की आवश्यकता इसलिए है क्योंकि देवबंद महाभारत से संबंधित है ना कि दारूल उलूम देवबंद से.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अब ऐसे में सवाल उठता हैं कि विधायक बनने के बाद क्या बृजेश सिंह देवबंद के शासक बन गए. जो देश के कानून की धज्जियाँ उड़ाकर अपनी मनमानी कर रहे हैं?

Loading...