Wednesday, October 20, 2021

 

 

 

बिहार के DGP गुप्तेश्वर पांडेय ने छोड़ी अपनी नौकरी, लड़ेंगे अब विधान सभा चुनाव

- Advertisement -
- Advertisement -

पटना: बिहार (Bihar) के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने स्वैच्छिक सेवानिवृति यानी वीआरएस ले लिया है। अब वे राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के प्रत्‍याशी के रूप में बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) लड़ेंगे। बिहार के राज्यपाल ने भी उनके वीआरएस की अर्जी को मंजूरी दे दी है।

गुप्तेश्वर पांडेय 1987 बैच के आईपीएस अफसर हैं। संयुक्त बिहार में कई जिलों के एसपी और रेंज डीआईजी के अलावा वे मुजफ्फरपुर के जोनल आईजी भी रहे हैं। एडीजी मुख्यालय और डीजी बीएमपी का भी उन्होंने पद संभाला था। केएस द्विवेदी के सेवानिवृत होने के बाद फरवरी, 2019 में बिहार के डीजीपी नियुक्त किए गए थे।

2009 के लोकसभा चुनाव से पहले भी पांडे ने वीआरएस के लिए आवेदन किया था लेकिन उन्हें बक्सर से चुनाव टिकट नहीं मिला था इसलिए अपना आवेदन वापस ले लिया था। गुप्तेश्वर पांडे डीजीपी रहते हुए राजनीतिक बयान देने के कारण सुर्खियों में रहे।

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में उन्होने अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती को लेकर विवादित टिप्पणी की थी। उन्होने कहा था कि रिया चक्रवर्ती की इतनी ‘औक़ात’ नहीं है को वो नीतीश कुमार पर टिप्पणी करें। इसके अलावा मुंबई पुलिस पर भी उनके कड़े बयान सामने आए थे।

2014 में गुप्तेश्वर पांडे और बिहार पुलिस के दो कर्मियों के ख़िलाफ़ सीबीआई ने नवरुणा केस में जांच की थी। 2012 में मुज़फ़्फ़रपुर से अपने घर से 12 साल की लड़की नवरुणा चक्रवर्ती को अगवा कर लिया गया था। नवरुणा के अगवा होने के एक महीने बाद घर के पास ही नाले में एक कंकाल मिला था।

बिहार के डीजीपी बनने पर नवरुणा के पिता अतुल्य चक्रवर्ती ने कहा था, ”मैंने अपनी बेटी के अपहरण के मामले में गुप्तेश्वर पांडे को अभियुक्त बनाया था और अब वो बिहार के डीजीपी बन गए हैं। अब हमारे लिए कोई उम्मीद नहीं बची है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles