बिहार के बेगूसराय जिले के मुसलमानों ने आपसी सौहार्द और भाईचारे की मिसाल पेश करते हुए अपने हिन्दू भाइयों की आस्था को ध्यान में रखते हुए अपनी जमीन मंदिर के लिए दान कर दी. इसके अलावा मंदिर  के निर्माण में आर्थिक मदद के साथ-साथ श्रमदान भी किया.

दरअसल, बखरी के शहीद चौक पर स्थापित प्राचीन हनुमान मंदिर काफी जर्जर हो चूका था. वहीँ मंदिर में आने वाले अधिक संख्या में लोगों के आने के कारण जमीन की भी समस्या आ रही थी. जिससे पूजा-पाठ में भी काफी परेशानी होती थी. बखरी के थाना प्रभारी सुनील कुमार ने मंदिर के जीर्णोद्धार का स्थानीय लोगों से आह्वान किया.

उसके बाद इलाके के हिन्दू और मुसलनमानों ने मंदिर के निर्माण में अपना-अपना सहयोग देने के लिए तैयार हो गए. ऐसे में अब जमीन की समस्या सामने आई. मंदिर के आसपास मुस्लिम समुदाय के लोगों की जमीन थी. जब मुस्लिम परिवारों को इस बारें में पता चला तो वे खुद आगे आए. थाना प्रभारी ने बताया कि मोहम्मद मुर्तजा ने स्वेच्छा से मंदिर के पास की अपनी जमीन मंदिर के लिए दान दे दी, जबकि मोहम्मद तुफैल अहमद, मोहम्मद सलीम और कारी अहमद ने इस कार्य में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बखरी में मंदिर का जीर्णोद्धार मुस्लिम परिवारों की मदद से होने की जानकारी पर बेगूसराय के पुलिस अधीक्षक रंजीत कुमार मिश्र ने मुस्लिम परिवारों से मिलकार कहा कि ‘बखरी के लोगों ने राज्य में ही नहीं, पूरे देश में सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल पेश की है. उन्होंने एक अनोखा उदाहरण पेश किया है.’

Loading...