bhagal

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन तलाक कानून का बुधवार को मुस्लिम महिलाओं ने भागलपुर में मौन जुलूस निकाल कर विरोध किया. इस जुलुस में महिलाओं के साथ उनके बच्चे और पति भी शामिल थे.

महिलाएं बिल वापस लिए जाने का स्लोगन वाली तख्ती हाथों में लिए थीं. मौन जुलूस में शामिल महिलाओं ने कहा कि यह बिल इस्लामी शरीयत के खिलाफ है. इसलिए वह इसका विरोध कर रही हैं. उनका कहना है कि बिल उनके निजी जिंदगी में दखल दे रहा है. जहां भी मुस्लिम महिलाएं हैं, वह इसका विरोध कर रही हैं.

बिना किसी नारे के शान्ति जुलूस चंपानगर से मुस्लिम हाई स्कूल, तातारपुर, स्टेशन चौक, साइकिल पट्टी, कोतवाली, खलिफाबाग, घटाघर चौक होता हुआ समारणालय पहुंचा.

तीन तलाक कानून का विरोध करने पहुंची कई मुस्लिम महिलाओं के हाथों में तिरंगे झंडे भी थे. पुरे शहर में तिरंगा को लहराया जा रहा था. तख्तियों में यह भी लिखा था कि भारत एक धर्मनिर्पेक्ष देश है, इसे खंडित करने की कोशिश की जा रही है.

मुस्लिम हाईस्कूल पहुँच कर मौलाना इलियास ने जुलुस को संबोधित करते हुए कहा कि यह कानून इस्लाम के खिलाफ है. जो हमारा शरीयत है उसे ही हम मानेंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस शरीयत में दखल अंदाजी न करें. उन्होंने कहा कि शरीयत में जो हुक्म है उससे बड़ा हमारे लिए कुछ नहीं है.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें